Category: motivation

motivate kaise rahe ?

0Shares

प्रेरणा कैसे प्राप्त करें ?

हम सभी के पास दिन में 24 घंटे होते हैं लेकिन हम में से कुछ खुश होते हैं और हममें से कुछ दुखी होते हैं,
सुबह में प्रेरित होने के लिए आप इन सरल दिनचर्या का पालन करें।

  1. सकारात्मक पुष्टि: जब आप सुबह उठते हैं तो खुद को बताएं कि मैं इस ग्रह पर पैदा होने वाला सबसे महान व्यक्ति हूं |
  2. सोने से पहले अगले दिन की कार्ययोजना बनाए
  3. सुबह-सुबह प्रेरित होने के लिए आप की कार्य योजना 1 दिन पहले रात में बना ले की अगली सुबह आपको क्या-क्या करना हैं | आप प्रेरित होंगे क्योंकि आप पहले से ही जानते हैं कि आप आज क्या करेंगे।
  1. लक्ष्य लिखें और उनकी समीक्षा करें
    आपको प्रतिदिन लक्ष्य लिखना होगा और उनकी समीक्षा करनी होगी, यदि आपने उन लक्ष्यों को पूरा कर लिया है तो आपको उपलब्धि का अहसास होगा।

मैं आपसे पूछना चाहता हूं कि आप सुबह अपने आप को प्रेरित करने के लिए क्या करते हैं?

0Shares

अकेले रहकर भी खुश कैसे रहें ?

0Shares

हां, हम अकेले हो कर भी खुश रह सकते हैं, अकेले रहकर खुश होने में सही समझ होना चाहिए |

अगर हमारी समझ सही नहीं है, तो अकेले होकर खुश रहना थोड़ा मुश्किल है |

आप पहले से जानते हैं हमारी मूलभूत आवश्यकताएं रोटी, कपड़ा और मकान है |

अगर हमारे पास खाने के लिए रोटी, पहनने के लिए कपड़े, और रहने के लिए मकान है, तो और कुछ नहीं चाहिए, यह एक सही समझ की बात है |

अगर हमारी समझ सही नहीं है, तो बहुत सी ऐसी चीजें हैं, जिन्हें पाने की चाह है, जैसे कि अच्छी गाड़ी, अच्छा लाइफ पार्टनर, कुल मिलाकर हमारे अंदर बहुत सी ऐसी चीज है, जिन्हें पाने की चाह है |

और हमें लगता है कि ख्वाइश पूरी हो जाने के बाद हम खुश हो जाएंगे, जबकि यह एक भ्रम है |

वास्तव में हमें खुश होने के लिए किसी व्यक्ति या वस्तु की आवश्यकता नहीं है, सिर्फ एक सही समझ की जरूरत है |

0Shares

What to do when your parents compare you to other child in Hindi

0Shares

क्या करें अगर आपकी फैमिली आपको अन्य बच्चों से तुलना करें तो ?

अगर आपकी फैमिली भी एक सामान्य फैमिली है, जो आपको अन्य बच्चों के साथ तुलना करती है , तो ऐसे में हमें परेशान होने की जगह यह देखना चाहिए कि
इस तुलना का कारण क्या है |
क्या यह तुलना एक वास्तविकता के आधार पर है |

एक महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन का मानना था कि हममें से हर कोई एक जीनियस है, लेकिन क्या होगा अगर हम एक बंदर को मछली के साथ उसके पानी पर पानी में तैरने की skill के आधार पर उसे judge करेंगे और एक मछली को बंदर के साथ पेड़ पर चढ़ने की skill में उसे जज करेंगे |

इस तरह की तुलना से ना तो कभी बंदर सफल होगा ना कभी मछली सफल हो पाएगी, बल्कि सफल होने के चक्कर में उनकी सफरिंग बढ़ जाएगी तो हमें एक समाज के तौर पर बच्चों की तुलना नहीं करनी चाहिए क्योंकि जरूरी नहीं जो बच्चा पढ़ाई में अच्छा ना हो वह खेलकूद में भी अच्छा नहीं है |

0Shares

हमेशा खुश कैसे रहें ?

0Shares

How to be happy in Hindi

जीवन में जो चुनौतियां आती है, वह हम नहीं चुन सकते हैं, लेकिन हम चुनौतियों से किस तरह deal करते हैं यह पूरी तरह से हमारे हाथों में हैं |

हमें हमेशा इस तरह की चुनौतियां मिलती रहेंगी, कुछ लोग इन चुनौतियों से हार जाते हैं और कुछ लोग इन चुनौतियों से लड़कर एक सफल इंसान बन सकते हैं |

हम एक बस के उदाहरण से समझ सकते हैं, कि जिस तरह कोई बस ड्राइवर होता है, उसी तरह आप भी आपकी लाइफ के ड्राइवर हो |

जिस तरह एक ड्राइवर को बस चलाते समय जितनी परेशानी आती है, उसी तरीके की कई परेशानियां हमारे जीवन में भी आती है, फर्क सिर्फ इतना है कि अगर आप आपकी लाइफ के अच्छे ड्राइवर हो तो आप हमेशा खुश रहोगे |

0Shares

संकट के समय में प्रोडक्टिव कैसे रहे ?

0Shares

संकट के समय प्रोडक्टिव रहने के लिए हमें अनुशासन का पालन करते हुए धीरे से काम लेना चाहिए |

वास्तव में संकट का समय हमारी लाइफ में हमें परखने के लिए आता है, संकट के समय में हमें सही काम सही दिशा निर्देशन में करना चाहिए,

क्योंकि यह हमारी जिंदगी के परीक्षण का समय है और यही वह समय है, जिसमें लोग अपनी काबिलियत का परीक्षण कर सकते हैं और अपनी क्षमता का विस्तार अधिक संपन्न बनने के लिए कर सकते हैं |

बहुत से लोग जो संकट के समय में भी अनुशासन और का पालन नहीं करते और धैर्य से काम नहीं लेते उनकी लाइफ बिखर जाती है, तो हमें संकट के समय में उभरने के लिए उस समय का सदुपयोग करना है |

जानते हैं कि
किस तरह हम संकट से उबरने के लिए समय का सदुपयोग कर सकते हैं?
किस तरह एक प्रोडक्टिव इंसान बन सकते हैं ?

संकट के समय से कैसे उबरे ?

  1. उस काम की चिंता मत करो जो तुम्हारे बस से बाहर है |
  2. अपने आरामदायक जीवन से बाहर आने की हिम्मत करो |
  3. संकट के समय अपनी भावनाओं को अपना व्यवहार ना बनने दो |
  4. बुरी से बुरी स्थिति में भी कुछ अच्छा निकालने की कोशिश करो |
  5. सही दिशा में सही काम करते रहो |
0Shares