Category: Uncategorized

Apne ko apneaap se kaise bachaye?

0Shares

केवल आप अपने जीवन को अपने आप से बचा सकते हैं |

यह संभव है यदि आप अपने मन को नियंत्रित कर रहे हैं लेकिन यदि आपका मन आपको नियंत्रित कर रहा है तो आपको अपने आप पर काम करना होगा |

वास्तव में हमारा मन एक बगीचे की तरह है। लेकिन क्या होगा अगर किसी बगीचे की देखभाल नहीं की जाती है, तो बहुत अधिक खरपतवार होगा जो बगीचे के लिए हानिकारक है, लेकिन अगर यह आपके दिमाग में है, तो आप अवसाद जैसे खरपतवार से कैसे बचा सकते हैं |

मैंने एक किताब लिखी है जिसमें मैंने दिखाया कि कैसे हम अपनी जीवनशैली में बदलाव करके अवसाद से बाहर आ सकते हैं।

depression eBooks
0Shares

Hum sochte kaise hai?

0Shares

हमारे अंदर से विचार आते हैं, और अंदर से हमें वही विचार मिलते हैं जो हमने अनजाने में अपनी आंखों या कानों के माध्यम से स्मृति में भर दिए हैं।

0Shares

Mai fail ho gya kya karu

0Shares

असफलता एक भ्रम है |

वास्तव में कोई भी व्यक्ति असफल नहीं होता है, असफलता व्यक्ति का भ्रम होता है |

संसार में हम सभी लोग समान अंगों के साथ आए हैं और भगवान ने हम सबको धरती पर समान समय दिया है (कुछ अपवाद को छोड़कर)

गलती हमारी भी नहीं है, जाने-अनजाने में कुछ लोग गलत रास्ता पकड़ लेते हैं, तो कुछ लोग सही रास्ता पकड़ लेते हैं |

जिसने सही रास्ता पकड़ लिया वह थोड़ा जल्दी सफल हो जाता है, लेकिन असफल व्यक्ति की राह थोड़ी बढ़ जाती है, क्योंकि उसे बाद में समझ आता है कि मैं गलत राह पर हूं |

देर से ही सही लेकिन मंजिल तक वह भी पहुंच जाता है, वास्तव में गलती असफल लोगों की नहीं होती है बल्कि उनकी मानसिकता की होती है, जिसकी वजह से अनजाने में वह गलत राह चुन लेते हैं, जिससे मंजिल तक आने में थोड़ा समय अधिक लगता है, लेकिन उनको उपहार में एक अनुभव मिलता है जो कि सफल लोगों को नहीं मिलता है |

सफल लोगों के पास, सफलता का एहसास होता है, जबकि असफल लोगों के पास एक मौका होता है, वह भी सफल हो सकते हैं, बस उनको देखना होगा कि ऐसी राह कौन सी है, जो सफलता की ओर जाती है |

इस अध्याय से हम यह सीख सकते हैं कि असफलता,सफलता की राह है , इसलिए सही राह पर चलकर हम डिप्रेशन से बाहर आ सकते हैं |

0Shares

गलतफहमी का सबसे बड़ा स्रोत है मीडिया

0Shares

गलतफहमी

अगर कोई सी movie बनाई गई है और दिखाया गया है कि अल्बर्ट आइंस्टीन और उनका रोल कर रहे हो सलमान खान तो सलमान खान साहब को नाम दिया जाएगा बॉलीवुड के आइंस्टाइन और कुछ दिन बाद लोगों से पूछा जाए कि E = mc^2 नियम किसने दिया तो लोग कहेंगे बॉलीवुड के आइंस्टाइन सलमान खान ने दिया |
तो ऐसे गलतफहमी वाले media विचारों से दूर रहें क्योंकि इनकी गति संक्रमित रोगों से बहुत ज्यादा है यही एकमात्र निवारण है इससे बचने |

0Shares

One thought that changed my Life in Hindi

0Shares

एक सोच जिसने मेरी जिंदगी बदल दी |

एक विचार जिसने मेरा डिप्रेशन खत्म कर दिया, जब मैं डिप्रेशन में था तो कहीं ऑनलाइन मुझे किसी से एक बुक पढ़ने को सलाह मिली इस बुक का नाम था द पावर ऑफ नाउ, इस पुस्तक में मेरी नजर एक लाइन पर पड़ी जिसमें लिखा था ‘you’re not your mind
यहां से मेरी आध्यात्मिक यात्रा की शुरुआत हुई थी, जिसकी वजह से मैं बहुत जल्द डिप्रेशन से बाहर आ गया था |

0Shares