डिप्रेशन एक जीवन शैली है कोई बीमारी नहीं

0Shares

आपकी मानसिक स्थिति का सीधा संबंध आपकी लाइफ स्टाइल से है, वास्तव में आप जिस भी अवस्था या स्थिति में हैं, अभी वह आपकी लाइफ स्टाइल की वजह से है |

Depression kya hai ?

Yeh blog Depression koi bimari nhi balki ek lifestyle hai jise badla ja sakta hai se liya gya hai.

depression eBooks

Aap is blog mai kya kya padoge?

Depression kya hai?
Depression ke lakchan
Cause-and-effect kya hai?
Depression se kaise bahar aaye ?
Depression kyu hota hai?
Depression se bahar aane ke liye kya kare?
Best book on depression in hindi

Depression kya hai?

Depression एक मानसिक स्थिति है, जो कि लाइफस्टाइल की देन है, अगर आपको लगता है आप डिप्रेशन में हो तो निश्चित रुप से आपकी लाइफ लाइफ स्टाइल में कुछ गड़बड़ है |

Depression ke lakchan

आपने अपने बारे में कुछ गलत देखा जो कि Depression ke lakchan ya depression की अवस्था से मिलते जुलते लक्षण थे और आपने भी मान लिया कि आप भी डिप्रेशन में हो |

आपकी जो लाइफ स्टाइल है, वह एक डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्ति की लाइफ स्टाइल के समान हैं |

क्या आप की लाइफ स्टाइल जब से आप पैदा हुए इसी तरह की है |

नहीं मेरे अनुसार आप बचपन से इस तरह के नहीं थे, जो आप आज हैं, जिस तरह से आप का बचपन गुजरा , जैसे जैसे आपकी उम्र गुजर गई, आपके अनुभव और जिस तरह आपके समाज में आप बड़े हुए उसी तरह आप की लाइफ स्टाइल बदलती रही |

जो पल निकल गए उसमें आपकी लाइफ स्टाइल अलग थी, आज अलग है, और निश्चित रूप से आने वाले समय में आप की लाइफ स्टाइल अलग होगी |

Cause-and-effect kya hai?

क्या आप जानते हैं लाइफस्टाइल में हर कुछ cause-and-effect की वजह से होता है

आपकी कल की लाइफ स्टाइल का प्रभाव आज की लाइफ पर बढ़ेगा और आज की लाइफ स्टाइल का प्रभाव आपके भविष्य की लाइफ पर पड़ेगा |

Depression se kaise bahar aaye ?

डिप्रेशन को ठीक करने का सबसे पहला तरीका अपनी लाइफ स्टाइल को बदल लो, लाइफस्टाइल का मतलब जिस तरह आप का रहन-सहन है, उसे बदल दीजिए

आपकी लाइफ स्टाइल में ऐसी कौन-कौन सी चीजें हैं जिनका आप पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है |

आपको उन सब नकारात्मक आदतों को त्यागना होगा और उनकी जगह कुछ सकारात्मक आदतों को अपनाना होगा जो आपकी लाइफ स्टाइल में परिवर्तन ला सके |

Depression kyu hota hai?

मैं अपने अनुभव से जानता हूं किन आदतों की वजह से डिप्रेशन में जाया जाता है और किस तरह की आदतों से डिप्रेशन से बाहर आ सकते हैं |

आज से कुछ बुरी आदतों को त्यागकर, कुछ आदतों को अपनाना ही है, जो आपको डिप्रेशन से निकलने में मदद कर सके |

अगर आप डिप्रेशन से बाहर निकलकर एक नई लाइफ स्टाइल चाहते हैं, तो आज से इन आदतों को पूर्ण रूप से त्याग दीजिए अन्यथा अपना कीमती समय इस पुस्तक को पढ़ने की जगह आप और कुछ कर सकते हैं |

Depression se bahar aane ke liye kya kare?

आपकी लाइफ स्टाइल को बदलने के लिए कुछ इस तरह के बदलाव आप अपने अंदर कर सकते हैं |

बिल्कुल भी झूठ ना बोले

पोर्नोग्राफी का इस्तेमाल बिल्कुल भी ना करे

किसी के प्रति भेदभाव ना रखें

लालची ना बने

चुगली ना करे

हर चीज जो गलत है उन सब को त्याग दें

उनको माफ कर दो जिन्होंने जाने अनजाने में
आपका दिल  दुखाया है

सरल स्वभाव को अपनाओ

दूसरों के प्रति दयनीय बनो

अपने आप को संतोषी व्यक्ति बनाओ
हमेशा सत्य बोलो

अपनी दिनचर्या को आप कुछ इस तरह बदल सकते हैं सुबह 6:00 बजे के पहले उठने की आदत

उठने के बाद रोज सेल्फ हेल्प बुक या आध्यात्मिक किताबों का 1 अध्याय रोज पढ़ें |

कम से कम आधा घंटा रोज पार्क में ठहले |

खाना खाने और पानी पीने के बाद ईश्वर को धन्यवाद करें |

हर बार खाना खाने से पहले और पानी पीने के पहले 3 लंबी-लंबी सांसें लें |

इसके बाद अब आपके नौकरी या व्यवसाय में सुचारू रूप से संलग्न हो जाए |

अगर आप घर पर खाली बैठे हैं, तो अपने आप को इस तरह व्यस्त रखे जिससे आपकी आमदनी भी हो जाए |

क्या आप जानते हैं खाली दिमाग शैतान का घर होता है |

ऑफिस या कॉलेज से घर लौटने के बाद 1 घंटे शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से आराम करें |

इसके बाद 1 घंटे खेलने के लिए जाइए या व्यायाम करिए या ऐसा कुछ करिए जिससे शारीरिक ऊर्जा की खपत हो |

अगर आप उपरोक्त लिखे गए टाइम टेबल या डेली रूटीन का पालन नहीं कर सकते तो ऐसा कुछ करें जिसमें आपको तीन चीजों की प्राप्ति हो –
स्वास्थ्य
धन
खुशी

आपके स्वास्थ्य को अच्छा रखने के लिए आप प्राणायाम, योगा या खेल खेलने जैसे शारीरिक क्रियाकलाप करें |

धन को पाने के लिए रोजाना नौकरी या व्यवसाय में समय का सदुपयोग करें |

खुशी को पाने के लिए अपनी समझ को बढ़ाएं अपनी समझ को बढ़ाने के लिए आप कुछ सेल्फ हेल्प बुक पढ़ सकते हैं या आध्यात्मिक ज्ञान सुन सकते हैं |

तीनों को पाने के लिए आप कुछ ना कुछ जरूर करें |

इस तरह हैं एक निश्चित शिष्टाचार
और अनुशासन का पालन करके आप डिप्रेशन की अवस्था से बाहर आ सकते |

रोज सुबह सोते और जागते समय एक नए दिन के लिए ईश्वर का धन्यवाद करें |

वास्तव में हमें अपने अल्प ज्ञान की वजह से लगता है कि हम सब जानते लेकिन हम कुछ नहीं जानते हैं |

हमारा एटीट्यूड ऐसा होना चाहिए जिसमें हम हमेशा कुछ न कुछ नया सीख सकें अगर हमें पहले से पता होता कि क्या सही है और क्या गलत तो शायद आप डिप्रेशन की अवस्था में नहीं पहुंचते |

हमें कुछ भी नया सीखने के लिए उन सब चीजों को छोड़ना पड़ता है, जो हम पहले से जानते हैं |

अगर आप इस पुस्तक ( डिप्रेशन कोई बीमारी नहीं बल्कि एक जीवन शैली है जिसे बदला जा सकता है ) को अपने अनुभवी ज्ञान के आधार पर पड़ रहे हो, तो इस बुक में पढ़ी बहुत सी बातें गलत प्रतीत हो सकती है |

अनुभवी-ज्ञान को साथ लेकर पढ़ोगे तो शायद आप इस पुस्तक को ना पढ़ पाओ, जब आप किसी पुस्तक को पड़े अपने अनुभवी-ज्ञान को छोड़कर उस पुस्तक को पढ़ें, अगर आपको लगता है कि आप सब कुछ जानते हैं, तो यह आपका भ्रम है |

Best book on depression in hindi

आखिर में मैं सिर्फ इतना कहूंगा कि इस पुस्तक ( डिप्रेशन कोई बीमारी नहीं बल्कि एक जीवन शैली है जिसे बदला जा सकता है )
को पढ़ते समय आप अपने पुराने ज्ञान अनुभव को छोड़कर इस पुस्तक को पढ़ें |

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *