Nov 24, 2020 Cure depression in 100 days

How to increase the power of acceptance in Hindi?

Acceptance kya hai?

वास्तव में acceptance से मतलब यह नहीं है,
जो गलत है उसे भी स्वीकार कर लो और जैसा चल रहा है वैसा चलने दो |

बल्कि एक्सेप्टेंस से मतलब यह कि जो चीजें आपके कंट्रोल में नहीं है, जिनको आप नियंत्रित नहीं कर सकते उसे एक्सेप्ट कर लो |

Apne mind ko kaise control kare?

कुछ चीज है जो कंट्रोल से बाहर है, जैसे कि हमारा मन |

वास्तव में मन को कंट्रोल नहीं किया जा सकता है, लेकिन इसे सही दिशा दी जा सकती तो इस समय हम मन को सही दिशा देने के लिए इसका अध्ययन कर रहे हैं |

हमारा पहला सही कदम होगा कि हम एक्सेप्ट कर ले, अभी इस पल में हमारे साथ जो भी हो रहा है उसे एक्सेप्ट कर ले, इससे कोई मतलब नहीं कि कितना अच्छा है या कितना बुरा हो रहा है |

उदाहरण के लिए मान लेते हैं : – आप साउथ में जाना चाहते हो, और आपने नॉर्थ का रास्ता पकड़ लिया है तो क्या आप कभी साउथ दिशा में जा पाओगे ?

लेकिन यही अगर आप स्वीकार करले की आप north में जा रहे हो जबकि आपको साउथ में जाना है, तो आप तो शायद आप सही दिशा में चले जाओ,
इसलिए यह पल जैसा भी है, इसे स्वीकार कर लो |

सोचो क्या होगा अगर आपने अपनी परेशानी को एक्सेप्ट नहीं किया, अगर हम हमारी समस्या को स्वीकार नहीं करेंगे तो हमारी समस्या और बड़ी समस्या में बदल जाएगी |

मान लो किसी व्यक्ति को कैंसर है, लेकिन किसी कारणवश यह स्वीकार नहीं करता है कि उसे कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी है, तो क्या ऐसे व्यक्ति कभी अपनी बीमारी के लिए डॉक्टर से कंसल्ट करेगा |

शायद नहीं लेकिन अगर वह व्यक्ति मान ले कि सच में उसे बीमारी है, तो शायद वह किसी ऐसे व्यक्ति से परामर्श ले सकता है, जो कैंसर की बीमारी का इलाज करने में मदद कर सके |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *