Introduction to psychology in Hindi

0Shares

Introduction to psychology in Hindi

साइकोलॉजी की सर्वप्रथम प्रयोगशाला कब बनी थी?

साइकोलॉजि शब्द 19वीं सदी के पहले इतना आम नहीं था | साइकोलॉजी की प्रथम प्रयोगशाला सन 1879 में बनी थी | जिसको जर्मनी के एक प्रोफेसर willhelm wundt ने बनाया था |

साइकोलॉजी की क्या परिभाषा है?

प्राचीन काल में साइकोलॉजी (psychology) को फिलोसोफी (philosophy) का हिस्सा समझा जाता था |

पहले प्राचीन काल में इसकी परिभाषा थी -द स्टडी ऑफ सोल ( the study of the soul ) जोकि रिजेक्ट कर दी गई क्योंकि उस समय soul के भौतिक अस्तित्व पर कई सवाल उठे थे |

इसके बाद कुछ ग्रीक फिलॉस्फर ने इसे –द साइंस ऑफ माइंड (the science of mind) कहां क्योंकि उनके अनुसार साइकोलॉजी एक मेंटल फिलॉसफी की शाखा थी साइकोलॉजिस्ट द्वारा इसे भी नकार दिया गया |

इसके बाद इसे बग्गा एंड सिंह द्वारा –द साइंस ऑफ कॉन्शसनेस (the science of consciousness) कहां गया लेकिन इसे भी नकार दिया गया |

इसके बाद साइकोलॉजी को – ए साइंस ऑफ बिहेवियर (a science of behaviour) के रूप में माना गया |

साइकोलॉजी की आधुनिक परिभाषा क्या है?

किसी व्यक्ति तथा उसके वातावरण की गतिविधि का अध्ययन साइकोलॉजी कहलाता है |

Psychology as a science क्या है?

Psychology: – किसी व्यक्ति तथा उसके वातावरण की गतिविधि का अध्ययन साइकोलॉजी कहलाता है |

सायकोलॉजी का संबंध experiment और observation से है, ना कि argument, opinions और belief पर है |

अवलोकन और प्रयोग के आंकड़े विज्ञान के लिए आवश्यक हैं |

प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से साइकोलॉजी observation योग्य है |

psychology वैज्ञानिक साक्ष्य द्वारा समर्थित हैं।

साइकोलॉजि की उत्पत्ति कब हुई?

साइकोलॉजी शब्द की उत्पत्ति सन 1870 के आसपास हुई है |

साइकोलॉजि की उत्पत्ति कैसे हुई?

साइकोलॉजी शब्द की उत्पत्ति ग्रीक भाषा के 2 शब्द psyche और logos से मिलकर हुई है | जहां psyche का मतलब है – आत्मा और logos का मतलब है- ज्ञान जिसे हम हिंदी में मनोविज्ञान या आत्मज्ञान के नाम से जानते हैं |

फादर ऑफ मॉडर्न साइकोलॉजी किसे कहा जाता है ?

willhelm wundt को फादर ऑफ मॉडर्न साइकोलॉजी भी कहा जाता है | क्योंकि
इसी समय में wundt ने mind, thoughts, emotions और feelings का अध्ययन शुरू किया |

Let us know aap ke anusar psychology kya hai ?

thanku for reading

Please share it with friends and family

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *