Updated : Sep 12, 2020 in Failure

Kya kare jab sapne pure na ho?

0Shares

हम सभी को बचपन में कोई सपना होता है, जिसे पूरा करने के लिए हम बहुत मेहनत करते करते कब बड़े हो जाते हैं पता ही नहीं चलता है |

मैंने ऐसे बहुत से लोग देखे हैं, और एक समय पर मैं भी ऐसा ही था |

मेरा भी सपना था कि मैं Astronaut बनू , जिसके लिए मैंने काफी मेहनत की, लेकिन फिर भी ना तो मैं Astronaut बना, ना ही मैं पढ़ाई पूरी कर पाया |

मैं आपको सिर्फ यह बताना चाहता हूं, कि अगर आप उन लोगों में से हैं जो इसलिए परेशान हैं क्योंकि उनका सपना पूरा नहीं हुआ तो आप ऐसा मान लो आपका वह सपना आप बन गए जो आप बनना चाहते थे |

हकीकत में ना सही मन में तो बन गए अब खुले दिमाग से इन प्रश्नों के जवाब दो :

  1. क्या आप आज खुश हो, जो आप करना चाहते थे वह आप बन गए?
  2. क्या यह खुशी हमेशा बनी रहेगी?
  3. क्या यह सपना पूरा होने के बाद मेरी सारी परेशानी खत्म हो गई या उल्टी बढ़ गई ?

वास्तव में जरूरी यह नहीं कि आप वह बनो जो आप बनना चाहते हो, आप बस एक अच्छे इंसान बनो जो स्वस्थ हो, समृद्ध हो और सबसे जरूरी अपनी लाइफ में खुश हो

ना मैं साइकोलॉजिस्ट हूं, ना मैं साइकैटरिस्ट हूं मेरा नाम दीपक यादव है और मैं एक spiritual teacher हूं, मैंने एक बुक लिखी है जो मानसिक परेशानी को दूर करने के लिए आपकी सहायता करेगी |

इस बुक का नाम ” डिप्रेशन कोई बीमारी नहीं बल्कि एक जीवन शैली है, जिसे बदला जा सकता है ” है |


0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *