Deepak Yadav

how to cure depression in Hindi

0Shares

You must have often heard that – my mind is not feeling well.
आपने अक्सर यह सुना होगा कि – मेरा मन नहीं लग रहा है |

मन नहीं लगे तो क्या करें?

You may feel like this, if you feel that you and your mind are the same.
आपको ऐसा लग सकता है, अगर आपको लगता है कि आप और आपका मन एक ही हैं |

In fact, I am not my mind, if I believe that I am my mind, then the absence of mind will come to the natural mind in the same way as you have prepared your mind.
वास्तव में मैं मेरा मन नहीं हूं , अगर मैं यह मान लूं कि मैं ही मेरा मन हूं , तो मन का ना लगना स्वाभाविक मन में उसी तरह के विचार आएंगे, जिस तरह आपने अपने मन को तैयार किया है |

Let’s try to understand by example, if I say I do not feel like going to office today, but I know it is very important to go to office today.
चलो उदाहरण से समझने की कोशिश करते हैं, अगर मैं कहूं मेरा आज ऑफिस जाने का मन नहीं है, लेकिन मैं जानता हूं आज ऑफिस जाना बहुत जरूरी है |

In this sentence I am on one side and on the other side my mind
इस वाक्य में एक तरफ में हूं और दूसरी तरफ मेरा मन

Even if your mind is stopping you then also you should do what is necessary.
अगर मन नहीं लगे तब भी आपको वही करना चाहिए जो जरूरी है |

The state of mind can change with the help of understanding.
मन कि मनोस्थिति समझ की सहायता से बदल सकते हैं |

More important than controlling the mind is to understand the mind.
मन को लगाने से ज्यादा जरूरी मन को समझना है |

by Deepak Yadav
0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *