Updated : Jun 07, 2020 in Cure depression in 100 days

अपने आपको प्रकृति को समर्पित कर दीजिए

0Shares

प्रकृति को समर्पित

अब से हमें कुछ सही और अच्छी जानकारी अपने आपको रोज देना है, अब अपने आपको पूर्ण रूप से ईश्वर या प्रकृति को समर्पित कर दीजिए |

समर्पित से मेरा मतलब यह है कि आज से आपको अपने बीमारू विचार को त्यागने हैं, जो आपको परेशान करते हैं |

लेकिन उन विचारों को मन से नहीं त्याग सकते |

अभी के लिए सोच लो आपके मन में वह विचार नहीं आने चाहिए जिन विचारों को सोचकर आप परेशान हो जाते हो , पर यह विचार तो पहले से हीं आपके अंदर मौजूद है |

आपको उन विचारों से पीछा छुड़ाने के लिए अपने आप को सरेंडर करना पड़ेगा |

मान लो पुलिस किसी चोर को पकड़ने के लिए पीछा कर रही है, उस चोर को कितना डर रहेगा और यही अगर वह खुद को सरेंडर कर दे तो क्या उसे कोई डर होगा |

इसलिए सबसे पहले अपने आप को सरेंडर कर दो |

अपने आप को सरेंडर करने से आपकी ईगो अपना प्रभाव दिखाना खत्म कर देगी , जिस तरह चोर सरेंडर कर देने के बाद अपनी भाग जाने की कोशिशों को छोड़ देता है |

आपको सरेंडर कर देने के बाद, अपने आप को ठीक करने के बारे में बिल्कुल नहीं सोचना है, क्योंकि आप अब सिर्फ कर्म करोगे आपके भाग्य को प्रकृति को समर्पित कर चुके हैं |

सरेंडर से मतलब सिर्फ और सिर्फ आपके ठीक होने के परिणाम को छोड़ना है, हमारे कर्म को नहीं छोड़ना |

समर्पण को और अच्छी तरह से समझने के लिए हम इस उदाहरण से समझ सकते हैं कि आप  ट्रेन से दिल्ली जा रहे हो |

अब आप ट्रेन में बैठकर बस यह सोच रहे हो बार-बार की  दिल्ली कब आएगा, कब दिल्ली आएगा ?

यहां पर ट्रेन में बैठकर जाना आपका कर्म है और दिल्ली पहुंचना आपका भाग्य है |

यहां पर सरेंडर करने से आशय बार-बार यह सोचकर दुखी नहीं होना है कि कब दिल्ली पहुंचे क्योंकि सोचने से आप दिल्ली नहीं पहुंचोगे |

आपके सोचने से ट्रेन की गति बढ़ नहीं जाएगी |

अपने आप को दुखी करने से अच्छा है, अपने आप को सरेंडर कर दो |

इसी उदाहरण की तुलना हम अपनी परिस्थितियों के हिसाब से अपने आप से करें, तो यहां पर डिप्रेशन से बाहर निकालना हमारी मंजिल है |

आज से इस वाक्य को बार-बार पड़े और इसे अंदर तक जाने दे |

मुझे अब किसी बात का डर नहीं है, जो होना हो होजाए, पर मैं अपने कर्म को पूरी ईमानदारी से करूंगा |

उपरोक्त वाक्य को अपने दिल से बोलियो पूरा अंदर तक जाने दे, इसे इमोशन के साथ feel करके बोलिए |

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *