Deepak Yadav

how to cure depression in Hindi

0Shares

when i was in Depression in Hindi

मैं 2016 के वर्ष में बहुत उदास था, क्योंकि मैं कई मानसिक बीमारियों जैसे कि पहचान विकार, अनिद्रा इत्यादि से पीड़ित था, लेकिन 6 महीने बाद मुझे एहसास हुआ कि हर चीज के पीछे cause-and-effect होता है।

मैंने आत्महत्या क्यों नहीं की और आपको ऐसा क्यों नहीं करना चाहिए ?

मेरे पास इस ग्रह पर बहुत सीमित समय है।

मुझे नहीं पता कि मैं ठीक होऊंगा या नहीं, लेकिन फिर भी हमारे पास पृथ्वी पर बहुत कम समय है, क्योंकि पृथ्वी पर एक मानव आयु लगभग 60 से 80 वर्ष है। लेकिन मेरे पास एक मौका है अगर मैं जिंदा हूं तो इसलिए मुझे उस मौके का इस्तेमाल करना है।

मेरी वर्तमान स्थिति के अलावा, जीवन में बहुत कुछ करना है।

चाहे मेरी वर्तमान की स्थिति कैसी भी हो , लेकिन फिर भी लाइफ में मुझे बहुत कुछ करना है, मेरी बचपन से ख्वाहिश थी कि मुझे दुनिया का हर एक कोना हर एक देश देखना है | और यह तभी मुमकिन होगा जब मैं इस धरती पर देखने के लिए रहूंगा |

क्या मेरी वर्तमान समस्या मेरी जिंदगी से बड़ी है?

नहीं मेरी वर्तमान समस्या मेरी जिंदगी का एक हिस्सा मात्र है, जो आज है, कल नहीं होगा, और जो कल होगा , वह उसके अगले पल में नहीं होगा |

क्या मैं बचपन से ऐसा ही हूं ?

वास्तव में मैं बचपन से ऐसा नहीं हूं , लेकिन कुछ मेरी गलतियों की वजह से, कुछ जिस वातावरण में मैं रहता हूं , उसकी वजह से मैं ऐसा हो गया हूं |

क्या मेरी लाइफ आज से बेहतर हो सकती है ?

हां , क्यों नहीं हो सकती, अगर मैं अपनी गलतियां और गलतफहमियां सुधार लूं तो |

ऐसे कौन से काम है जो मुझे जीते जी करने ही है?

मेरी कुछ अपनी पसंदीदा जगह है जिन्हें मुझे इस जिंदगी में देखना ही है , जो दुनिया के बहुत से अलग-अलग देशों में हैं |

मैं इतना लापरवाह नहीं हो सकता

मैं इतना लापरवाह नहीं हो सकता कि, मैं अपनी परेशानी के आगे , मेरे मां-बाप को लेकर मेरे कुछ कर्तव्य में उन्हें भी भूल जाऊं |

आपको अभी तो लाइफ में बहुत कुछ करना है |


आखिरी में मैं सिर्फ यह कहूंगा, की

लाइफ में लाइफ से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ भी नहीं है |

by DEEPAK YADAV
0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *